ऑटो मोबाइल

- Advertisement -
छतरपुर

भोपाल से आई ओआईसी ने प्राचार्यों की बैठक में दिखाए कड़े तेवर, एक परिसर-एक शाला के बेहतर संचालन की मियाद तीन दिन

Views

(लखन राजपूत)

छतरपुर। एक परिसर-एक शाला के तहत पूरे प्रदेश में शालाओं का एकीकरण किया जा रहा है। इसके पीछे शासन की मंशा है कि विद्यालयों में स्टाफ की कमी को दूर कर न्यून शिक्षकीय स्कूलों को भी सुचारू रूप से संचालित किया जाए। जिले में करीब एक सैकड़ा ऐसे विद्यालय हैं जहां एक परिसर-एक शाला के तहत शालाओं का एकीकरण किया गया है मगर भौतिक स्थिति कुछ अलग है।

भोपाल सीपीआई से आई ओआईसी रेखा श्रीवास्तव ने विगत रोज जिले के विभिन्न क्षेत्रों में जाकर एक परिसर एक शाला की स्थिति जानी। पनौठा और देरी में विद्यालय संचालन को देखकर उन्होंने नाराजगी जताई और आनन-फानन में रविवार को प्राचार्यों की बैठक ली। बेहतर संचालन के लिए ओआईसी ने तीन दिन की मोहलत दी है।
हायर सेकेण्डरी स्कूल क्रमांक 2 में ओआईसी रेखा श्रीवास्तव ने जिले भर के एक सैकड़ा प्राचार्यों की बैठक ली। उन्होंने कहा कि एक परिसर एक शाला संचालन में लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। यदि तीन दिन में इस योजना का क्रियान्वयन सही ढंग से नहीं होता तो संबंधित के खिलाफ गंभीर कार्यवाही होगी। एपीसी रामहित व्यास द्वारा एक परिसर एक शाला का पावर प्वाइंट के माध्यम से प्रजेंटेशन किया। शनिवार को ओआईसी ने धमौरा, उत्कृष्ट हायर सेकेण्डरी स्कूल नौगांव, कन्या हायर सेकेण्डरी स्कूल नौगांव, आदर्श स्कूल नौगांव पनौठा और देरी की स्थिति जानी। नौगांव कन्या और आदर्श स्कूल बेहतर ढंग से संचालित मिला जबकि पनौठा और देरी की स्थिति असंतोष जनक रही। रविवार की बैठक में डीईओ एसके शर्मा, सहायक संचालक जेएन चतुर्वेदी तथा एडीपीसी एचएस दीक्षित उपस्थित रहे।