ऑटो मोबाइल

- Advertisement -
भोपालमध्य प्रदेश

जघन्य दोहरे अंधे हत्याकाण्ड का भोपाल पुलिस ने महज 24 घण्टे में किया पर्दाफ़ाश।

दंपत्ति को जानकारी होने पर पुलिस में शिकायत के डर से आरोपी ने तकिया से मुंह दबाकर एवं सिलबट्टे व ऑपरेशन ब्लेड से वार कर की दोनों की हत्या

Views

भारत पोस्ट की एंड्राइड अप्प यहाँ क्लिक कर करें डाउनलोड ।

आरोपी ने मृतक दंपत्ति के खाते से उड़ाये करीब 11 लाख रुपये।

नगदी निकालने के साथ-साथ ऑनलाइन की शॉपिंग।

भोपाल. दिनाँक 10/04/19 को सायं करीब 05.15 बजे थाना टीटीनगर की डायल 100 को सूचना प्राप्त हुई कि, प्रियदर्शनी नगर नर्मदा भवन के पास एक मकान में पति-पत्नि घायल अवस्था में पडे है। जिसकी सूचना पर थाना से स्टॉफ रवाना होकर घटनास्थल पहुॅचा। घटना स्थल के निरीक्षण से पाया गया कि बुजुर्ग दंपत्ति की अस्वाभाविक मृत्यु हुई है।

जिसकी सूचना पर मौके पर वरिष्ठ अधिकारी पहुॅचें, घटना स्थल का निरीक्षण कर प्रथम दृष्टया घनी बस्ती के मध्य मामला जघन्य हत्या का प्रतीत होने से पुलिस उप महानिरीक्षक शहर श्री इरशाद वली ने पुलिस अधीक्षक दक्षिण क्षेत्र श्री संपत उपाध्याय के निर्देशन में अज्ञात आरोपी की पतासाजी कर तत्काल गिरफ्तार करने के समुचित दिशा निर्देश दिए गए।

भारत पोस्ट की एंड्राइड अप्प यहाँ क्लिक कर करें डाउनलोड ।

उक्त निर्देशों के पालन में अति0 पुलिस अधीक्षक जोन-1 श्री अखिल पटेल के मार्गदर्शन में नगर पुलिस अधीक्षक श्री उमेश तिवारी के नेतृत्व में अज्ञात आरोपी की धरपकड़ हेतु तीन टीमें गठित की गई एवं तीनों टीमों को अलग-अलग टास्क दिये गये। एक टीम स्वतंत्र साक्षी की तलाश व एक टीम आस-पास के क्षेत्र में घटना के बारे में पतासाजी करने के लिये व मामले में एक टीम बैंक से जानकारी प्राप्त करने रवाना की गई।

बैंक से जानकारी प्राप्त करने पर पता चला कि मृतक डालचन्द के बैंक अकाउण्ट में दिनॉक-01/03/2019 को करीबन 11 लाख रूपये थे जो कि दिनॉक 22/03/19 को घटकर 28000/- रूपये ही बचे थे । प्राप्त जानकारी से हत्या का शक किसी विश्वासपात्र व्यक्ति पर ही जा रहा था । जिसे पुलिस ने बैंक से ए.टी.एम. द्वारा पैसे निकालते हुए फुटेज प्राप्त किये गये तथा मृतक की लडकी, ठेकेदार तथा पडोसियों ने अपना शक मृतक के भतीजे पर होना बताया। जिसको पुख्ता ए0टी0एम0 के फुटेज ने किया ।

संदेही मनीष को हिरासत में लेकर उससे कडाई से पूछताछ करने पर ए0टी0एम0 से पैसा निकालना व ए0टी0एम0 से खुद के द्वारा खरीदी करना बताया तथा जानकारी होने पर मृतक डालचन्द द्वारा थाना रिपोर्ट करने आने वाला था। यह सोचकर उसने पहले डालचन्द का मुँह तकिये से दबाकर सिलबट्टे से वार कर मार दिया।

इसके बाद आरोपी ने मृतिका बेतीबाई का मुँह तकिया से दबाकर आपरेशन ब्लैड से वार कर हत्या करना स्वीकार किया। बाद में आरोपी ने पुलिस को मृत दंपत्ती के घर से सिलबट्टे का पत्थर, आपरेशन ब्लैड और हत्या करते समय पहने हुए कपडे अपने घर भीमनगर से बरामद कराये। आरोपी मनीष रजक के द्वारा अपने बडे मम्मी-पापा की जघन्य हत्या करना स्वीकार किया।

गिरफ्तार आरोपी का नाम:- मनीष रजक पिता रामसेवक रजक उम्र-27 साल नि0-म.न-1040/01, भीमनगर थाना जहॉगीराबाद भोपाल।

उक्त जघन्य हत्याकाण्ड का पर्दाफाश करने में थाना प्रभारी निरीक्षक वीरेन्द्र सिंह चौहान, उनि सुदामा ठाकुर, उनि कर्ण सिंह, उनि निर्भय सिंह भदौरिया, परि0 उनि मनोज दवे, सउनि अमरसिंह , प्र0आर0 महेष धुर्वे, प्र0आर0 मनोज , आर0 शैलेन्द्र छोकर, आर0 दौलत, आर0 अजीत, आर0 राजकुमार, प्र.आर. प्रभूदयाल, प्र0आ0 छत्रपाल की सराहनीय भूमिका रही है।

भारत पोस्ट की एंड्राइड अप्प यहाँ क्लिक कर करें डाउनलोड ।

Leave a Reply