ऑटो मोबाइल

- Advertisement -
छत्तीसगढ़दुर्गबिलासपुरभिलाईरायपुर

सरकार की घोषणा के छह साल बाद जशपुर पहुंची दिलीप सिंह जूदेव की प्रतिमा

Views

#जशपुर छत्तीसगढ़

अपनी मूंछों को दांव पर लगाकर नवगठित छत्तीसगढ़ में भाजपा को स्थापित करने वाले भाजपा के कद्दावर नेता स्व. सांसद दिलीप सिंह की प्रतिमा जशपुर में स्थापित करने की सरकारी घोषणा के छह साल बाद यंहा बुधवार को पहुंची है। इसे शहर के रणजीता तिराहे के पास लगाने का काम अब शुरू कर दिया गया है।

देश हिंदू धर्मांतरण के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाले भाजपा के कद्दावर नेता स्व. सांसद दिलीप सिंह का निधन 14 अगस्त 2013 को मेदांता अस्पताल दिल्ली में हुआ था। उनकी तेरहवीं पर जशपुर के रणजीता स्टेडियम में आयोजित विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने जशपुर और कुनकुरी में दिलीप सिंह जूदेव के आदमकद प्रतिमा स्थापित करने की घोषणा की थी। 2013 में घोषणा के लगभग 6 साल बाद जूदेव की प्रतिमा जशपुर पहुंची है।

सरकार की घोषणा के छह साल बाद जशपुर पहुंची दिलीप सिंह जूदेव की प्रतिमा

यह विडंबना है कि जशपुर को जिले के रूप में अस्तित्व में लाने वाले स्व. दिलीप सिंह जूदेव के प्रतिमा स्थापना की फाइल 4 साल तक नगरपालिका की आलमारी में बंद रही। अधिकारियों द्वारा तर्क दिया जाता रहा कि सर्वोच्च न्यायालय के गाइड लाइन की वजह से किसी भी चौक के बीच में स्थापित नहीं की जा सकती। इस बीच 2016 मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक पत्र को लेकर बवाल हुआ था, जिसमें जूदेव की प्रतिमा स्थापित करने की घोषणा को विलोपित करने का जिक्र था।

भाजपा को छत्तीसगढ़ प्रदेश में स्थापित करने वाले कद्दावर नेता की प्रतिमा भाजपा के सरकार का १५ वर्ष का लम्बा कार्यकाल रहते हुए नहीं लग सकी। सबसे दुर्भाग्यपूर्ण पहलू यह रहा कि जूदेव का प्रभा मंडल तले अनेक विधायक, सासंद और मंत्रियों की लम्बी सूची तैयार हो जाने के बाद भी इसके लिए इन महत्वपूर्ण जनप्रतिनिधियों की ओर से कोई विशेष पहल ही नहीं की गई।

अंततः स्व. दिलीप सिंह जूदेव के पुत्र प्रबल प्रताप सिंह जूदेव खुद प्रतिमा स्थापना में भिड़े तब जाकर यह प्रतिमा तैयार हो सकी। श्री जूदेव प्रतिमा के लिए विश्व के मशहूर मूर्तिकार से उत्तरप्रदेश जाकर मिले। जिसने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी बनाई उसी विश्व प्रसिद्ध मूर्तिकार ने बनाई जूदेव की प्रतिमा .

सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची मूर्ति स्टैच्यू ऑफ यूनिटी बनाने वाले विश्व प्रसिद्ध मूर्तिकार राम सुतार के हाथ से ही स्व दिलीप सिंह जूदेव की मूर्ति का निर्माण हुआ है। मूर्तिकार राम सुतार को भारत सरकार ने पद्मश्री व पद्मभूषण सम्मान दिया है। प्रबल प्रताप सिंह जूदेव ने बताया कि मूर्ति निर्माण के लिए वे मूर्तिकार राम सुतार से मिलने गए थे। उस वक्त स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का काम चल रहा था। जशपुर से जाकर सुतार से समय लेना ही मुश्किल का काम था, पर जब राम सुतार ने यह जाना कि स्व. दिलीप सिंह जूदेव की मूर्ति बनाने का निवेदन उनके पुत्र कर रहे हैं तो व्यस्तता के बावजूद उन्होंने काम अपने हाथ में लिया। राम सुतार के हाथ से बनी यह मूर्ति जीवंत सी लग रही है। उत्तरप्रदेश के गौतम बुद्ध नगर से यह मूर्ति रवाना हो कर अब जशपुर पहुंच गई है।

1 Comment

Leave a Reply