ऑटो मोबाइल

- Advertisement -
Uncategorizedछत्तीसगढ़

हरा सोना का लक्ष्य पूरा करने में जूटे संग्रहाक, वन मंडल जशपुर के तेंदूपत्ता फड़ में हो रही खरीदी

Views

जशपुर छत्तीसगढ़
रमेश शर्मा

जशपुर जिले की वन समितियों में इन दिनों तेंदूपत्ता संग्रहण का काम शुरू हो चुका है , इस बार राज्य सरकार ने तेन्दूपत्ता खरीदी की दर 25 सौ ₹. को बढ़ा कर 4 हजार रुपये कर देने से संग्रहकर्ताओं में खासा उत्साह देखने को मिल रहा है.
वन मंडल जशपुर अन्तर्गत पंड्रापाठ क्षेत्र में गर्मी का प्रकोप नहीं बढ़ने से यंहा अभी तेंदूपत्ता फड़ में संग्रहण का कार्य प्रारंभ नहीं हो पाया है।
इसके विपरीत पत्थलगांव, कांसाबेल, कुनकुरी क्षेत्र में प्रारंभ के तीन दिनों में ही तेन्दूपत्ता बेचने वालों की भीड़ उमड़ने लगी है. जशपुर वन मंडल मे अच्छे क्वालिटी के पत्तों की अलग पहचान रही है. इस बार तेन्दूपत्ता के भाव में बढ़ोतरी के बावजूद यंहा 4 समितियों का पत्ता की अग्रिम खरीदी हो चुकी है. अच्छे किस्म की खरीदी कर शासन द्वारा मिले लक्ष्य को पूरा करने के लिए संग्रहक व फड़ समिति के पदाधिकारी व विभागीय अधिकारी जीजान से जूटे हुए हैं।

मई माह के शुरूआत से ही तेंदुपत्ता संग्रहण के लिए काम शुरू कर दिया गया है। अब लक्ष्य को पूरा करने के लिए वन अमला सभी तेंदूपत्ता फड़ में खरीदी के इंतजाम करने में जुट गया है। विभागीय अधिकारियों ने बताया कि तेंदूपत्ता संग्रहण के लिए इस बार उनचालीस हजार मानक बोरा का लक्ष्य दिया गया है। इसके लिए संग्रहक तेंदूपत्ता चुन कर फड़ तक लाने लगे हैं। जशपुर वन मंडल में 24 तेंदुपत्ता समिति कार्य कर रही है और 300 से अधिक फड़ यहां बनाए गए हैं। इसमें अब तक करीब 7000 मानक बोरा का संग्रहण कर लिया गया है।
बताया जा रहा है कि लक्ष्य को पूरा करने के लिए संग्रहको को नियमित रूप से कई तरह के सुझाव दिए जा रहे हैं और मौसम अच्छा रहने पर 24 या 25 मई के अंत तक लक्ष्य की पूर्ति कर लिए जाने की बात विभाग के अधिकारियों के द्वारा कही जा रही है।_

“ग्राम स्तर पर हुई कार्यशाला”

जशपुर वन मंडल की सभी समितियों में अच्छी क्वालिटी का तेंदूपत्ता की खरीदी हो सके इसके लिए वन मंडल अधिकारी कृष्ण कुमार जाधव ने तेन्दूपत्ता
तोड़ाई से पहले बूटा कटाई का काम बेहतर ढंग से करने के लिए कार्यशाला का आयोजन किया था. इसमें बेहतर ढंग से बुटा कटाई करने की बात संग्रहकों से कही थी. प्रारंभ में ग्राम स्तर पर पूरे वन मंडल में कार्यशाला का आयोजन करा लेने से अब अच्छे परिणाम सामने आ रहे हैं। इस दौरान ग्रामीणों को बूट कटाई, अच्छी क्वालिटी के पत्ते सहित पत्तों की गुणवत्ता को लेकर कई प्रकार की जानकारी दी गई थी और इसका नतीजा है कि इस वर्ष अच्छी क्वालिटी का तेंदूपत्ता देखने को मिल रहा है।

“शाम के दौरान हो रही खरीदी”

तेंदुपत्ता संग्रहक सुबह के दौरान जंगल की ओर निकल जाते हैं। इसके बाद यहां दिन भर रहने के बाद अच्छी क्वालिटी का तेंदूपत्ता इक्ट्ठा करते हैं और इसका 50-50 का गड्डी बना कर इसे तेंदूपत्ता फड़ में लाते हैं। इसके बाद तेंदूपत्ता के लाट लगा दिया जा रहा है। अच्छे व खराब पत्ते की जांच फड़ मुंशी कर रहे हैं।

” समय पर पूरा हो जाऐगा तेन्दूपत्ता खरीदी का लक्ष्य “

तेंदूपत्ता संग्रहण का कार्य शुरू कर दिया गया है। वर्तमान स्थिति में 7 हजार मानक बोरा से अधिक तेंदूपत्ता का संग्रहण कर लिया गया है .जशपुर जिले का पंड्रापाठ क्षेत्र में मौसम ठंडक रहने से अभी तेन्दूपत्ता तोड़ाई का काम शुरू नहीं हो पाया है.यंहा जशपुर,मनोरा और सन्ना में भी दो तीन दिन के भीतर तेन्दूपत्ता खरीदी का काम शुरू कर लिया जाऐगा. आगामी 24, 25 मई तक खरीदी के बाद लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा। लक्ष्य को पूरा करने के साथ अच्छी क्वालिटी का पत्ता मिल सके, इसके लिए प्रारंभ से काफी प्रयास किया गया है।
कृष्ण कुमार जाधव
प्रबंध संचालक, जिला लघुवनोपज सहकारी संघ मर्यादित जशपुर

फैैक्ट फाईल
39000 मानक बोरा लक्ष्य
300 तेंदूपत्ता फड़ बनाए गए
24 तेंदूपत्ता समिति
24, 25 मई तक होगी खरीदी