ऑटो मोबाइल

- Advertisement -
Uncategorized

हाथियों की निगरानी से  2 गांव के लोगों को सुरक्षित बचाया  

Views

पत्थलगांव/ 19 जूलाई/

रमेश शर्मा

जशपुर वन मंडल में आज बीती रात पत्थलगांव वन परिक्षेत्र का मयुरनाचा और तरेकेला के ग्रामीणों को समय पूर्व जंगली हाथियों की सूचना मिल जाने से यंहा 20 परिवार के लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया।
इन दिनों जशपुर वन मंडल में जंगली हाथियों की संख्या में काफी इजाफा हो जाने के बाद यंहा आए दिन उत्पात की घटना सामने आ रही हैं।
हाथियों के उत्पात में कमी लाने तथा जनहानि शुन्य करने की खातिर वन कर्मियों के छैः अलग अलग दल रात और दिन जंगलों के बाहर रह कर कड़ी निगरानी के लिए तैनात किए गऐ हैं।
पत्थलगांव वन परिक्षेत्र अधिकारी अनिता साहु ने आज बताया कि हाथी से जनहानि की घटना के बाद वह हाथी अगले 48 घंटे तक काफी आक्रोशित रहता है। इस वजह कांसाबेल और धरमजयगढ़ क्षेत्र के कापू में कल उत्पात मचाने वाले हाथियों की गतिविविधियों पर सतत निगरानी रखी जा रही थी।
उन्होने बताया कि इन हाथियों का आबादी क्षेत्र की ओर रूख होते ही आस पास के ग्रामीणों को सतर्क कर देने से जनहानि की क्षति से बचाया जा सकता है। उन्होने बताया कि कल कांसाबेल और कापू क्षेत्र में हाथी से 3 जनहानि की घटना के बाद  पत्थलगांव क्षेत्र में विशेष सावधानी बरती जा रही थी। यंहा तरेकेला और मयुरनाचा गांव में हाथियों का दल पहुंचने के बाद भी उनसे छेड़छाड़ नहीं किए जाने से अप्रिय घटना का टाल लिया गया।
वन अधिकारी अनिता साहु का कहना था कि जंगली हाथियों की उपस्थिति के दौरान उनसे पर्याप्त दूरी बनाने के साथ पत्थरबाजी अथवा परेशान नहीं करने की समझाईश देकर लोगों को जागरूक करने के अच्छे परिणाम सामने आ रहे हैं।