ऑटो मोबाइल

इंदौरइलेक्शन 19न्यूज़भोपालमध्य प्रदेश

जिनके 15 वर्ष के शासनकाल में कई ईमानदार अधिकारियों को प्रताड़ित किया गया , उनका तबादला किया गया, वे आज किस मुँह से कांग्रेस सरकार पर सवाल उठा रहे है – नरेन्द्र सलूजा

नरेन्द्र सलूजा ने लगे आरोप - मध्यप्रदेश कांग्रेस

1.47KViews
Spread the love
पोलिटिकल ब्यूरो, भोपाल
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा कि जिनके 15 वर्ष के शासनकाल में कई ईमानदार अधिकारियों को प्रताड़ित किया गया, उन्हें दंडित किया गया। उनका दबाव-प्रभाव में तबादला किया जाता रहा। ऐसे सैकड़ों उदाहरण है। वो आज किस मुँह से रूटीन प्रक्रिया के तहत किये गये तबादले पर सवाल उठा रहे है ?
कमलनाथ मुख्यमंत्री – मध्यप्रदेश
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान गलत बयानबाजी कर भ्रम पैदा कर रहे है। तबादला एक सामान्य प्रशासनिक प्रक्रिया है। 
नरेन्द्र सलूजा ने कहा कि शिवराजसिंह बतायें कि जब वे मुख्यमंत्री थे तब कई ईमानदार -निष्ठावान अधिकारियों को उनकी सरकार में क्यों प्रताड़ित किया गया। जिसके कई उदाहरण है।
नरेन्द्र सलूजा – मीडिया समन्वयक (कांग्रेस)
सलूजा ने कई उदहारण भी दिए जैसे,
01. भाजपा शासनकाल में सरावगी बंधुओ के 500 करोड़ रूपये के कटनी हवाला कांड उजागर करने वाले ईमानदार अधिकारी गौरव तिवारी को क्यों हटाया था ? जिसका वहाँ की जनता ने भी विरोध किया था।
02. 200 करोड़ रूपये का डीजल घोटाला उजागर करने वाली भोपाल नगर निगम आयुक्त छवि भारद्वाज को क्यों हटाया था ?
 03. ई-टेंडर घोटाला उजागर करने वाले मेप आईटी के प्रमुख मनीष रस्तोगी को चलती जाँच से क्यों हटाया गया था ?
04. बैहर में आरएसएस के प्रचारकों की पिटाई के मामले में तत्कालीन आईजी डी.सी. सागर, एसपी असित यादव को निष्पक्ष कार्यवाही के बाद भी क्यों हटाया था ?
05. शहडोल के तत्कालीन एसडीएम लोकेश जाँगिड को ताबड़तोड़ आपके दौरे के बाद रात में ही क्यों हटाया गया था ?ये तो चंद उदाहरण है, प्रताड़ित होने वाले ईमानदार अधिकारियों की सूची काफ़ी लंबी है।
सलूजा ने कहा कि बेबुनियाद आरोप लगाने से पहले शिवराजसिंह अपने शासनकाल की कार्यप्रणाली पर ध्यान देंगे तो बेहतर होगा।